एसिडिटी-गैस की दवा जिन्टैक से कैंसर का खतरा, कंपनी फाइजर समझौते को राजी

वाशिंगटन। एसिडिटी और गैस दूर करने की दवा जिन्टैक से कैंसर और अल्सर होने के खतरे के दावे किए गए हैं। करीब दस हजार दावों के चलते इसकी निर्माता कंपनी फाइजर समझौते के लिए राजी हो गई है।

यह है मामला

जिन्टैक (रेनिटिडिन) से कैंसर और अल्सर होने के 10 हजार से ज्यादा दावों पर अमेरिकी दवा निर्माता कंपनी फाइजर समझौते को राजी हो गई है। हालांकि, समझौते की शर्तों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। बताया गया है कि यह समझौता पूरे अमेरिका में दायर मुकदमों को निपटाने के लिए किया जा रहा है। बता दें कि इस मामले में अमेरिका में फाइजर के अलावा जीएसके, सनोफी और बोहरिंगर इंगेलहेम के खिलाफ संघीय और राज्य अदालतों में 70 हजार मुकदमे दायर हैं।

एसिडिटी, सीने में जलन और गैस के लिए व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली दवा जिन्टैक से कैंसर और अल्सर होने की जानकारी 2019 में सामने आई। इस दवा में इस्तेमाल होने वाले रेनिटिडिन को 1977 में एलन एंड हनबरी लैब में बनाया गया। 1983 में ग्लैक्सो स्मिथ क्लाइन (जीएसके) ने इसे जेनटैक के तौर पर बाजार में उतारा। 1997 में रेनिटिडिन पर जीएसके का पेटेंट खत्म हो गया। इस बीच फाइजर और सनोफी जैसी कंपनियों ने भी इसका उत्पादन किया।

रेनिटिडिन में एनडीएमए की भारी मात्रा मिली

2019 में जीएसके के पूर्व कर्मचारियों सहित कुछ स्वतंत्र वैज्ञानिकों ने दावा किया कि रेनिटिडिन में कैंसर कारक एन-नाइट्रोसोडिमिथाइलमाइन (एनडीएमए) की भारी मात्रा पाई जाती है। इसके बाद 2020 में अमेरिकी नियामक संघीय दवा प्रशासक (एफडीए) ने दवा के उपयोग पर बैन लगा दिया और इसे बाजार से बाहर कर दिया।

भारत में इस दवा की बिक्री खुली रहेगी

जीएसके ने दुनियाभर के बाजारों से जिन्टैक ब्रांड नाम से बेची जाने वाली इस दवा को हटा दिया है। हालांकि, भारत में इस दवा की बिक्री जारी रहेगी। भारत में रेनिटिडिन का इस्तेमाल कर सैकड़ों जेनरिक दवाएं बेची जा रही हैं।

 

Advertisement