नशीले इंजेक्शन बेचने पर पहलवान और खरीददार अरेस्ट, 3500 इंजेक्शन बरामद

नकली दवा

पानीपत। नशीले इंजेक्शन बेचने के आरोप में पहलवान और खरीददार दोनों को गिरफ्तार किया गया है। एंटी नारकोटिक्स सेल ने गांजबड़ गांव निवासी पहलवान राजपाल से नशे के 3500 इंजेक्शन बरामद किए हैं।

यह है मामला

खिलाडिय़ों को प्रतिबंधित नशीले इंजेक्शन बेचने के मामले का खुलासा हुआ है। आरोपी खुद भी पहलवानी करता है। वह स्टेडियम व अन्य स्थानों पर खिलाडिय़ों को नशे के इंजेक्शन सप्लाई करता था। पता चला है कि खिलाड़ी उसके घर से भी नशे के इंजेक्शन खरीदकर ले जाते थे। जिला पुलिस की एंटी नारकोटिक्स सेल ने गांजबड़ गांव निवासी पहलवान राजपाल से नशे के 3500 इंजेक्शन बरामद किए हैं।
बताया गया है कि आरोपी ने इनको घर में तूड़ी में छुपा रखा था। आरोपी की निशानदेही पर एक खरीदार को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने खरीदार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है, जबकि आरोपी पहलवान को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है। पूछताछ में सामने आया कि आरोपी दो साल से नशे के इंजेक्शन बेचने के धंधे से जुड़ा था।

एंटी नारकोटिक्स सेल इंचार्ज सब इंस्पेक्टर संदीप ने बताया कि उनकी टीम टोल प्लाजा के पास मौजूद थी। उनको गुप्त सूचना मिली कि गांजबड़ गांव निवासी राजपाल अपने घर पर नशीले प्रतिबंधित इंजेक्शन बेच रहा है। पुलिस टीम ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट तहसीलदार पानीपत वीरेंद्र गिल को साथ लेकर मौके पर दबिश दी। आरोपी पुलिस टीम को देखकर भागने लगा। टीम ने उसको दबोचकर उसके घर की तलाशी ली। यहां तूड़ी के कमरे से नशीले प्रतिबंधित इंजेक्शन की खेप बरामद हुई। इनमें 500 बुप्रेनॉफिन, 1400 पेंटाजोसाइन ओजैटसेल, 1600 पेंटाजोसाइन पेफ्लिन नशीले प्रतिबंधित इंजेक्शन पाए गए।

प्रति इंजेक्शन 50 रुपये लाभ कमाता था आरोपी

आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह करीब दो साल से नशे के प्रतिबंधित इंजेक्शन बेच रहा है। वह करहंस गांव निवासी दुष्यंत से 70 रुपये प्रति इंजेक्शन के हिसाब से खरीद कर लाता था। उसी गांव का युद्धवीर उससे 120 रुपये प्रति इंजेक्शन के हिसाब से खरीद ले जाता है। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर युद्धवीर को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से सात नशीले प्रतिबंधित इंजेक्शन बरामद किए। आरोपी युद्धवीर ने पूछताछ में पुलिस को बताया वह खुद इंजेक्शन लगाने का आदी है। आरोपियों के खिलाफ थाना सदर में एनडीपीएस एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया, जहां से आरोपी युद्धवीर को न्यायिक हिरासत जेल भेज दिया। आरोपी राजपाल को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है।

Advertisement