नशीली दवा के अंतरराज्यीय नेटवर्क का पर्दाफाश, 7 अरेस्ट

सोलन (हप्र)। नशीली दवा के अंतरराज्यीय नेटवर्क का पर्दाफाश किया गया है। साथ ही गिरोह से जुड़े सात आरोपियों को भी गिरफ्तासर किया गया है। पंजाब पुलिस ने बद्दी के एक फार्मा उद्योग से पांच राज्यों में चल रहे नशीली दवाओं के नेटवर्क को पकड़ा। पुलिस ने इस गिरोह के मुख्य सरगना सहित 7 आरोपियों को अरेस्ट किया है।

यह है मामला

नारकोटिक्स सैल अमृतसर की टीम ने बद्दी के दवा उद्योग में रेड कर 725.5 किलो नशीले ट्रामाडोल पाऊडर (जिससे करीब 1.5 करोड़ कैप्सूल बन सकते हैं) के साथ 47.32 किलोग्राम नशीले कैप्सूल बरामद किए हैं। इन्हें टीम एक ट्रक में भरकर पंजाब में ले गई है।

जांच में पता चला कि दवा उद्योग ने एक वर्ष के अंदर 6500 किलोग्राम नशीला ट्रामाडोल पाऊडर खरीदा था। इससे स्पष्ट है कि नशीली दवाओं का उत्पादन बड़े स्तर पर हो रहा था। पंजाब में मामले का भंडाफोड़ होने के बाद राज्य दवा नियंत्रक विभाग ने दवा उद्योग को नोटिस जारी कर जांच के लिए एक कमेटी भी गठित की है।

पंजाब के डीजीपी गौरव यादव ने बताया कि अरेस्ट किया गया गिरोह पांच राज्यों पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश ओर महाराष्ट्र में नशीली दवाओं का नेटवर्क चला रहा था। इसमें फार्मा फैक्टरी के कर्मचारियों की भी भूमिका भी सामने आई है। गिरोह के पास से पुलिस ने 70.42 लाख नशीली दवाइयों की गोलियां, 725 किलोग्राम ट्रामाडोल पाऊडर और 2.37 लाख रुपए की ड्रग मनी बरामद की है।

मुख्य सरगना को उत्तर प्रदेश से दबोचा

डीजीपी ने बताया कि पुलिस ने नशीली दवाओं के मुख्य सरगना को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से गिरफ्तार किया है। दो नशा तस्करों को गिरफ्तार करने के बाद एसपी एसटीएफ विशालजीत सिंह और डीएसपी एसटीएफ वविंदर कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीमों ने इस रैकेट के मुख्य सरगना ऐलेक्स पालीवाल को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में ट्रेस करके गिरफ्तार किया।

मुख्य सरगना ऐलेक्स पालीवाल के पास से 9.04 लाख नशीली गोलियां व कैप्सूल के साथ 1.37 लाख रुपए की ड्रग मनी बरामद की। पुलिस पूछताछ में ऐलेक्स पालीवाल ने बताया कि बद्दी के दवा उद्योग से नशीली दवाइयों की खेप उठाई जाती थी।

इन नशीले पदार्थों की ट्रांसपोर्टेशन और वितरण संबंधित जांच करते हुए नशीले पदार्थों की तस्करी के अंतर्राज्यीय नैटवर्क की जांच करते हुए 4 अन्य तस्करों को दबोचा गया, जिनकी पहचान इंतजार सलमानी, प्रिंस सलमानी, बलजिन्दर सिंह और सूबा सिंह के तौर पर हुई है।

पंजाब एसटीएफ ने ड्रग कंट्रोल ऑफिसर सुखदीप सिंह और रमनीक सिंह की मौजूदगी में पुलिस टीमों ने बद्दी स्थित दवा उद्योग की जांच की और रिकॉर्ड जब्त करने पर खुलासा हुआ कि केवल आठ महीनों में 20 करोड़ से अधिक एल्पराजोलम गोलियों का उत्पादन किया।

दवा उद्योग को नोटिस थमाया

उप दवा नियंत्रक बद्दी मनीष कपूर ने बताया कि नशीली दवाओं का मामला सामने आने पर सम्बन्धित उद्योग को नोटिस जारी किया गया है और इस पूरे मामले की जांच के लिए एक कमेटी भी गठित की है। कमेटी की रिपोर्ट मिलने पर आगामी कार्रवाई को अंजाम दिया जाएगा।

Advertisement