अब दवाओं पर होगी ऑनलाइन निगरानी

पटियाला: स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महिंद्रा ने कहा कि सभी सरकारी अस्पतालों के स्टोर ऑनलाइन किए जा रहे हैं ताकि मरीजों को किसी तरह की परेशानी न झेलनी पड़े। स्टोर ऑनलाइन होने से दवा की खपत की रियल टाइम जानकारी हासिल हो सकेगी। चिकित्सकों का मानना है कि सरकारी अस्पताल में दवा की किल्लत दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग का मेडिसिन स्टोर ऑनलाइन करने का निर्णय सराहनीय है। ऐसे में दवा के स्टॉक पर वेयरहाउस की नजर रहेगी। जैसे ही दवा खत्म होने लगेगी तभी अलर्ट हो जाएगा। फिर संबंधित दवाओं की सप्लाई कर दी जाएगी।

बता दें कि सरकारी अस्पतालों में मरीजों को इलाज के दौरान दवाओं की कमी से ज्यादा परेशान करती है। डॉक्टर तो दवा लिख देता है लेकिन महंगी दवाएं खरीदना हर मरीज के वश में नहीं होता। जब अस्पताल में दवाई नहीं मिलती तो मजबूरन कैमिस्ट के पास जाना होता है। कई दफा कैमिस्ट स्टोर से मिलने वाली दवा की कीमत चुकाने में मरीज असमर्थन हो जाता है जिस कारण इलाज प्रभावित होता है। सरकार अस्पताल प्रबंधन को सारी स्थिति का पता होने के बावजूद कुछ लोगों की कारगुजारियों के चलते दवाओं की किल्लत दूर नहीं हो पाती है। इस अव्यवस्था से निपटने के लिए सरकार ने सीधी निगरानी रखने की नीयत से यह कदम उठाया है। उम्मीद है कि मरीजों को इसका लाभ मिलेगा।