दवा कम और डोज ज्यादा, खूब मिलेगा फायदा

फिरोजाबाद : हरियाणा में बेशक टीबी रोगी की दवा के अभाव में मौत हो गई लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार सरकार टीबी रोगियों के लिए दवा के क्षेत्र में नए-नए प्रयोग कर उनकी जान बचाने का पूरा प्रयास कर रही है। खास बात ये कि इस बार यूपी सरकार हरियाणा दिवस यानी एक नवंबर से टीबी रोगियों की दवा की डोज में बदलाव करने जा रही है ताकि टीबी मुक्ति की राह आसान हो सके। दरअसल, क्षय रोग विभाग मे नई पद्धति पर बनीं दवा की डोज आ गई है। एक नवंबर से डेली डोज कार्यक्रम की शुरुआत होगी।

टीबी मरीज को को ज्यादा दवाएं खाने की बजाय एक दो गोलियों खानी पड़ेगी। हालांकि डेली डोज कार्यक्रम की शुरुआत गांधी जयंती पर होनी थी लेकिन केंद्र से दवाओं की खेप नहीं आने के कारण लेट-लतीफी हो गई। अभी तक मरीज एक दिन छोडक़र करीब पांच से सात गोलियां खाते थे। दवा की मात्रा ज्यादा होने से मरीज भी इसके नियमित इलाज में लापरवाही बरत जाते हैं। सीएमओ डॉ. एसके दीक्षित के मुताबिक, नई पद्धति की दवाएं जारी हो चुकी है। कार्यक्रम पहली बार शुरु किया जा रहा है।