डॉक्टरों को निदेशक स्तर पर विदेश यात्रा की अनुमति

जयपुर: राजस्थान में सेवारत डॉक्टरों का प्रंबधकीय कैडर बनाने के लिए 3 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है। इसमें निदेशक (जनस्वास्थ्य) डॉ. वी.के.माथुर, अतिरिक्तनिदेशक (राजपत्रित) डॉ. गिरीश पाराशर एवं वित्तीय सलाहकार जमनालाल जांगिड शामिल है। कमेटी 3 नवंबर तक प्रस्ताव तैयार कर उपशासन सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) देगी। यह जानकारी देते हुए चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने कहा कि मौसमी बीमारियों के दौर के चलते सेवारत चिकित्सक संघ द्वारा सामूहिक अवकाश एवं त्यागपत्र देना मरीजों के हित में नहीं है। उन्होंने संघ के पदाधिकारियों को मानवीय दृष्टिकोण के साथ अपने चिकित्सा दायित्वों का पालन करने की अपील की है। सराफ ने बताया कि सरकार सकारात्मक रूख अपनाकर सेवारत डॉक्टरों की लंबित मांगों एवं उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए नियमित चर्चा कर जरूरी कार्यवाही कर रही है।

अस्पतालों में हिंसक घटनाओं की रोकथाम एवं डॉक्टरों की सुरक्षा के संबंध में मुख्य सचिव की ओर से संभागीय आयुक्तजिला कलक्टरों को पत्र लिखा गया है। चिकित्सा कार्य के दौरान स्वाइन फ्लू के कारण मृत्यु होने की स्थिति में 20 लाख रुपये की राशि देने के आदेश जारी हो चुके है। प्री-पीजी प्रवेश एवं आरपीएससी द्वारा सहायक आचार्य के पदों पर भर्ती की अधिकतम आयु सीमा को बढ़ाने का प्रस्ताव विचाराधीन हैं। दस से अधिक डॉक्टरों को निदेशक के स्तर पर ही विदेश यात्रा की अनुमति जारी की जा चुकी हैं।