औषधि अधिकारी को मिलेगा आराम, फार्मासिस्ट नियुक्त होंगेे फार्मा निरीक्षक!

रोहतक: अब तक आपने केमिस्ट स्टोर पर औषधि नियंत्रण विभाग के अधिकारियों को छापेमारी और दवाओं की जांच-पड़ताल करते देखा होगा। अब ताजा जानकारी यह है कि रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट भविष्य में बतौर फार्मा निरीक्षक नियुक्ति पाकर इस काम को अंजाम दे सकते हैं। राजस्थान सरकार इस बात को लेकर गहन मंथन कर रही है। फार्मेसी काउंसिल द्वारा रजिस्टर्ड फार्मासिस्टों को फार्मेसी एक्ट के मुताबिक दवाओं की जांच-पड़ताल के काम का जिम्मा सौंपा जा सकता है। राजस्थान शासन फार्मासिस्ट को फार्मा निरीक्षक के रूप में नियुक्ति देने का मन बना रही है।

सरकार की तरफ से इस बाबत विचार-विमर्श के लिए राजस्थान फार्मेसी काउंसिल के रजिस्ट्रार और औषधि नियंत्रण संगठन को पत्र जारी किया गया था। फिलहाल इस बात की सूचनाभर से ही औषधि अधिकारियों में हलचल है। दवा बाजार में भी इस बात को लेकर अच्छी-खासी चर्चा है। वहीं फार्मासिस्ट इस कदम से उत्साहित हैं। फार्मासिस्टों का कहना है कि दवा और उनके साल्ट की जानकारी का ज्ञान उनकी पढ़ाई का हिस्सा है। चूंकि कैमिस्ट शॉप चलाने और दवा वितरण के लिए फार्मासिस्ट की अनिवार्यता उसकी योग्यता के आधार पर सरकार ने तय की है, लिहाजा बतौर फार्मा निरीक्षक सरकार उन्हें दवा बाजार में जांच-पड़ताल का काम सौंपती है तो नतीजे बेहतर सामने आएंगे।