फार्मा कंपनी की शिकायत पर औषधि विभाग का छापा

मेरठ : औषधि प्रशासन टीम ने रिठानी और खैरनगर समेत छह स्थानों पर नकली दवा बेचे जाने की सूचना पर छापेमारी की। रिठानी के एक मेडिकल स्टोर से 50 टैबलेट मिली हैं, जिनके नकली होने का संदेह जताया गया है। अधिकारियों ने उन्हें सीज कर सैंपल जांच के लिए भेज दिए।

औषधि निरीक्षक पवन कुमार के मुताबिक, नई दिल्ली की लाइफ स्टार फार्मा प्राइवेट लिमिटेड ने अधिकृत प्रतिनिधि के माध्यम से सहायक आयुक्तऔषधि मेरठ मंडल राजेश श्रीवास्तव को सूचित किया कि मेरठ और गाजियाबाद के कई मेडिकल स्टोर पर उनके एक उत्पाद गुडसेफ -200 की नकली टेबलेट बेची जा रही हैं। सूचना पर सहायक आयुक्त ने जांच टीम का गठन किया, जिसमें उनके अलावा औषधि निरीक्षक विवेक कुमार सिंह और जुनाब अली शामिल रहे। सहायक आयुक्तके निर्देशन में मोदीनगर के एक संस्थान और मेरठ में छह विक्रय संस्थानों पर टीम ने जांच की। रिठानी में मेडिकल स्टोर में इस दवा की 50 टैबलेट मिली। निर्माता फर्म द्वारा उपलब्ध कराए गए विवरण के आधार पर दवाएं संदिग्ध प्रतीत हो रही थीं। फर्म को तीन दिन में इसके क्रय अभिलेख प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। अन्य फर्मों से प्राप्त विवरण के आधार पर आगे की कार्रवाई की जा रही है। सैंपल की जांच रिपोर्ट एवं निर्माता फर्म से मिले विवरण की तफ्तीश के बाद खोट साबित हुआ तो ड्रग एंड कॉस्मिेटिक एक्ट के तहत मामला चलेगा।