क्या खुल पाएगा जान लेने वाली इस दवा का राज

गोरखपुर। बीआरडी मेडिकल कॉलेज में सीनियर रेजिडेंट डॉ आरती की मौत का मामला सुर्खियों में है। डॉ आरती की मौत के पीछे जिस बेहोशी की दवा को बताया जा रहा है, उसको लेकर खूब चर्चा है। सभी के मन में ये सवाल है कि क्या जान लेने वाली इस दवा का राज खुल पाएगा। हालांकि अभी ये कहना जल्दबाजी होगी कि डॉ आरती की मौत के पीछे ये दवाई है भी या नहीं।

मिली जानकारी के अनुसार, डॉ. आरती की मौत के पीछे बेहोशी की दवा के ओवरडोज को कारण बताया जा रहा है। उनके शरीर में इस दवा की मौजूदगी भी अभी तक साबित नहीं हो सकी है। पोस्टमार्टम में मौत का कारण न आने के बाद अब बिसरा जांच में सच सामने आने की उम्मीद लगाई जा रही है।

दूसरी ओर फोरेंसिक टीम को हॉस्टल में डॉ. आरती के कमरे में खाली सीरिंज तो मिली, लेकिन इंजेक्शन का वायल नहीं मिला। फोरेंसिक एक्सपर्ट ने आशंका जताई कि इंजेक्शन को सीरिंज में भरने के बाद उसे खिड़की से फेंक दिया गया होगा।

इन सब के बीच सवाल उठता है कि ऑपरेशन के वक्त मरीजों को बेहोश करने के लिए जिस दवा का इस्तेमाल बड़े सर्जन भी नहीं जानते, उसके बारे में गायनी की स्टूडेंट को कैसे पता चला।