खत्म हो गई ये दवा

बालूदा (छत्तीसगढ़) : समय पर टीका नहीं लगने से बच्चों को कई तरह की बीमारियां घेर लेती हैं। प्रतिमाह 5 हजार टीके का लक्ष्य है, परंतु इस बार केवल 2 हजार वैक्सीन ही जिले में पहुंची हैं। जानकारी के मुताबिक, रायपुर से ही वैक्सीन की सप्लाई कम हो रही है। दवाओं के स्टॉक सेंटरों में पिछले 10 दिनों से खसरा के टीके नहीं पहुंचे। विभाग ने स्टॉक मंगाने के लिए रायपुर के उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा फिर भी अब तक पर्याप्त मात्रा में दवा यहां नहीं पहुंची है।

टीकाकरण के नाम पर केंद्र और राज्य सरकार करोड़ों रुपए खर्च कर रही है, लेकिन सही मॉनिटरिंग के अभाव में टीके का लाभ बच्चों को नहीं मिल पा रहा है। समय पर टीका नहीं लगने से बच्चे बीमार हो रहे हैं और उनकी मौत हो जा रही है। पामगढ़ क्षेत्र के 4 बच्चों की डिप्थीरिया यानी गलघोंटू बीमारी से मौत हो चुकी है। इनमें डुडग़ा की मनोज रोहिदास की बेटी आंचल 6 साल की 6 सितंबर को और ग्राम नंदेली व्यासनगर के दिलीप पटेल की बेटी यमुना पटेल 5 साल की 6 नवंबर को मौत हो चुकी है। इसी तरह मुलमुला के भी एक बच्चे की जान डिप्थीरिया से चली गई।