बढ़ता नशे का कारोबार

झाबुआ। मध्यप्रदेश के झाबुआ से हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। यहां लगातार नशे का कारोबार बढ़ता जा रहा है लेकिन ध्यान कोई देता दिख नहीं रहा है। हालात ऐसे हो गए है कि अब नशे के लिए शहर के युवा नाइट्रावेट या अन्य दवाई गोलियों का उपयोग कर रहे हैं। पिछले दिनों 9वीं के छात्र पार्थ की हत्या में पकड़ाए दो आरोपियों ने भी नशा कर रखा था।

लोगों का कहना है पुलिस को इस तरह का नशा करने वालों के साथ उन पर भी कार्रवाई करनी चाहिए जो उन्हें अवैध रूप से नाइट्रावेट या नशे के लिए अन्य दवाई-गोली आदि उपलब्ध कराते है। अगर पुलिस ने शहर में अवैध रूप से बिक रही नशीली गोलियां व अन्य दवाओं पर प्रतिबंध नहीं लगाया तो इस नशे की गिरफ्तर में आकर युवा और बड़े-बड़े अपराध करने लगेंगे।

मिली जानकारी के अनुसार, एलप्रेक्स ट्राइका, एटीवान, लोराजीपाम, रिवोट्रील क्लोनाजीपाम ऐसी दवाएं हैं, जिनका उपयोग नशे के लिए किया जाने लगा है। इन दवाओं को ज्यादातर नींद न आना, दर्द और तनाव को दूर करने वाले मरीज को दिया जाता है। इतना ही नहीं, शहर के युवाओं द्वारा नशे के लिए फोर्टविन इंजेक्शन का इस्तेमाल करने की बात भी सामने आई है। यह इंजेक्शन डॉक्टर मरीजों का दर्द ठीक करने के लिए उपयोग करते हैं। इस दर्द निवारक इंजेक्शन का उपयोग गलत तरीके से किया जा रहा है। बिना डॉक्टर के लिखे यह दवा किसी को भी उपलब्ध नहीं कराई जा सकती। प्रशासन की तरफ से नशे के कारोबार को खत्म करने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है।