नवजातों की मौत पर यूनिसेफ का बड़ा खुलासा

नई दिल्ली। यूनिसेफ ने नवजातों की मृत्युदर के मामले में रिपोर्ट पेश की है। यह रिपोर्ट काफी चिंताजनक है। रिपोर्ट के अनुसार विश्व के एक चौथाई नवजातों की मौत केवल भारत में हो जाती है। बताया गया है कि देश में हर साल जन्म के 28 दिन के अंदर 6 लाख नवजात अकाल मौत का ग्रस बन जाते हंै। भारत में नजवातों की मौत के ये ग्राफ विश्व में सबसे ऊपर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 80 फीसदी इन मौतों का कोई गंभीर कारण भी नहीं है। दूसरी तरफ भारत में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर में कमी आई है।
यूनिसेफ की रिपोर्ट ‘एवरी चाइल्ड अलाइव’ में विश्व के 184 देशों को कवर किया गया है। इसमें भारत को 25.4 फीसदी की नवजात मृत्यु दर (1000 जीवित बच्चों के बीच) के साथ 31वें रैंक पर रखा गया है। नवजात के पहले 28 दिन बच्चे के सुरक्षित जीवित रहने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यूनिसेफ के अनुसार, वैश्विक दर के मुताबिक हर 1000 बच्चों में 19 नवजातों की मौत हो जाती है। वैश्विक स्तर पर 2.6 मिलियन बच्चे जन्म के पहले माह में मर जाते हैं। उनमें 80 फीसदी से ज्यादा मौत बीमारी की सही रोकथाम न होने, समय से पहले जन्म, प्रसव के दौरान जटिलताओं और न्यूमोनिया जैसे संक्रमण के कारण होती है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि हर मां और बच्चे के लिए उत्तम और उचित स्वास्थ्य सेवा मौजूद होनी चाहिए। इसमें साफ पानी, स्वास्थ्य सेवा के लिए बिजली, जन्म के पहले घंटे में स्तनपान, मां-बच्चे के बीच संपर्क आवश्यक कहा गया है। भारत वर्तमान में सतत विकास लक्ष्य को पूरा करने से काफी दूर है।