एनओसी पर बाहर से खरीद रहे दवा

जयपुर। राजधानी के सरकारी अस्पतालों में दवाओं की कमी बताकर मरीजों को खाली हाथ लौटाया जा रहा है। वहीं, पेंशनर्स को 70-80 फीसदी दवाओं के लिए एनओसी देकर अस्पताल के बाहर निजी दवा केन्द्रों पर भेज दिया जाता है। इस तरह के मामले एसएमएस (सवाई मानसिंह अस्पताल) के उपभोक्ता भंडार पर ज्यादा सामने आए हैं। पेंशनर्स स्टोर पर दवाएं पूरी नहीं मिलने के कारण मरीजों को भारी परेशानी हो रही है। खासतौर पर उन पेंशनर्स को जो हर महीने दवा लेने के लिए प्रदेशभर से यहां आते हैं।

एसएमएस उपभोक्ता भंडार पर जयपुर के बाहर से आए एक पेंशनर ने बताया कि वे पांच दिन पहले यहां दवा लेने आए थे। उन्हें 70 फीसदी दवाओं की अनुपलब्धता बता कुछ दिन बाद आने को कहा गया। उन्होंने एनओसी लेकर बाहर से पांच दिन की दवाएं ले ली। लेकिन आज तक भी उन्हें सभी दवाएं उपलब्ध नहीं हो रही है। उपभोक्ता भंडार पर दवाओं की इस अवांछित किल्लत से एसएमएस के आसपास के निजी मेडिकल स्टोर्स की पौ-बारह हो गई है। उपभोक्ता भंडार से एनओसी लेकर पेंशनर निजी दुकान पर जा रहे हैं और वहां पैसे देकर दवाएं खरीद रहे हैं। फिर पेंशनर्स इसे सरकार के पास पुर्नभरण के लिए भेज रहे हैं। इससे पेंशनर्स को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। उधर, कॉनफेड के अधिकारियों ने दवा की किल्लत होने से साफ इनकार करते हुए कहा कि दवाओं के भौतिक सत्यापन की वजह से दवा के लिए मना किया जा रहा होगा। इस मामले की पूरे जानकारी करवाएंगे।