दवा विक्रेता नहीं बेच सकेंगे नकली दवा

नई दिल्ली। अब दवा विक्रेता नकली दवाई नहीं बेच पाएंगे। दरअसल, सरकार एक ऐसी योजना पर काम कर रही है, जिससे आप खुद ही असली या नकली दवा की पहचान कर सकेगा। घरेलू बाजार में मिलने वाली दवाइयों की पैकिंग पर एक यूनिक कोड छपा होगा, जिसे एसएमएस कर आसानी से पता लगा सकेंगे। एसएमएस करते ही यह पता चल जाएगा कि दवा किस कंपनी ने तैयार की है। दवाइयों की पैकिंग पर 14 डिजिट का यूनिक कोड नंबर प्रिंट होगा। इसमें दवा की ओरिजिन से लेकर इसकी पूरी सप्लाई चेन की जानकारी होगी। कोई भी कंज्यूमर दवा लेने के बाद यूनिक कोड नंबर को एसएमएस कर सकेगा।
एसएमएस करते ही दवा की ओरिजिन कंपनी के अलावा इसके सप्लाई चेन की जानकारी मिल जाएगी। इस तरह से आप नकली दवा लेने की किसी भी संभावना से बच जाएंगे। देश की सबसे बड़ी एडवाइजरी बॉडी कल नकली दवाओं की बिक्री पर अंकुश लगाने के उपायों पर चर्चा करेगी। इसके लिए सरकार 300 दवा ब्रान्डों और उसके कंजम्पशन पैटर्न का डाटा बैंक बनाने की योजना बना रही है। उसके बाद दवा कंपनियों को दवा की पैकिंग पर एक यूनिक 14 डिजिट का अल्फान्यूमेरिक कोड प्रिंट करने के लिए कहा जाएगा।