स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से फीके हो रहे इंद्रधनुष के रंग

शामली: केंद्र सरकार के सबसे महत्वपूर्ण कार्यक्रम मिशन इंद्रधनुष पर स्वास्थ्य विभाग की ढीली पकड़ से कई राज्यों में नतीजे सार्थक नहीं आ रहे है। जानकारी के मताबिक, टीकाकरण के इस अभियान में शामली जिला फिसड्डी हो गया। प्रकरण पर शासन गंभीर हुआ तो लखनऊ से आए ओएसडी ने स्वास्थ्य महकमे की क्लास ले ली। डीएम ने भी मामले में आपात बैठक लेकर स्वास्थ्य अधिकारियों को चेतावनी जारी कर दी। राज्य में मिशन इंद्रधनुष का संचालन किया जा रहा है।
नियमित टीकाकरण में जो बच्चे दूरस्थ और दुर्गम इलाकों में छूट गए। उनको कवर करने के लिए इस योजना का शुभारंभ किया गया था। प्रदेश में योजना का अच्छी तरह क्रियान्वयन हो रहा है, लेकिन इसके लक्ष्य प्राप्ति में शामली को शर्मिंदा होना पड़ रहा है। दो दिन पूर्व शामली में पहुंचे ओ.एस.डी. राकेश कुमार के सामने डब्लू.एच.ओ. ने स्थानीय रिपोर्ट रखी शामली में टीकाकरण की स्थिति परत दर परत खुल गई। बताया जाता है कि शामली में मिशन इंद्रधनुष की स्थिति 61 प्रतिशत रही जो बेहद चिंताजनक है। इसके हिसाब से शामली पूरे सूबे में सबसे नीचे यानि 74 वें नंबर पर है।
यह खुलासा होते ही ओएसडी ने पहले तो स्वास्थ्य विभाग की जमकर क्लास ली। उसके बाद उन्होंने इस संबंध में डीएम सुजीत कुमार से मुलाकात की। डीएम ने तत्काल जिम्मेदार अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में चिकित्सा अधिकारी को भी इस बाबत खरी-खोटी सुननी पड़ी। कई अधिकारियों को हिदायत दी गई कि भविष्य में लापरवाही हुई, तो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।