‘हाथ की सफाई’ में अपोलो अस्पताल का विश्व रिकॉर्ड

नई दिल्ली: उच्च तकनीक के बूते बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने वाले निजी अस्पतालों की सूची में अग्रणी इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल अब ‘हाथ की सफाई’ में विश्व रिकॉर्ड बनाकर चर्चा में है।
5 मई को हैंड हाइजिन डे पर इंप्रस्थ अपोलो अस्पताल ने मरीजों एवं स्वास्थ्य सेवाओं में काम करने वाले कर्मचारियों की सुरक्षा बढ़ाने के उद्देश्य से ‘क्लीन हैंड्स हीलिंग हैंड्स’ नामक अभियान शुरू किया, जिसमें स्वच्छता के प्रति जागरुकता और पूर्ण भागीदारी निभाने का संदेश दिया। अभियान के सफल क्रियान्वय से अस्पताल ने ‘हैंड सैनिटाइजेशन रिले’ का गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड बनाया। नई दिल्ली स्थित अपोलो परिवार के करीब 1700 सदस्यों के साझा प्रयास से यह उपलब्धि हासिल करने वाला इंद्रप्रस्थ अपोलो पहला अस्पताल है।
स्वच्छता अभियान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आदर्श योजना है। स्वतंत्रता दिवस से ठीक पहले हासिल हुई इस उपलब्धि ने आजादी के उत्सव में अपोलो अस्पताल की खुशी और भागीदारी, दोनों ही को दोगुना कर दिया।
अपोलो के स्वास्थ्य सेवा विभाग के निदेशक मेजर जनरल (डॉ.) एल.आर. शर्मा के मुताबिक, रोगी के इलाज में शत-प्रतिशत सफलता हासिल करने के लिए उसे संक्रमणमुक्त माहौल देना बेहद जरूरी है। इसके लिए स्वच्छता पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। अभियान का लक्ष्य लोगों को ‘हैंड हाइजिन’ की आदत डालना है। अस्पताल स्वस्थ, सुरक्षित और साफ माहौल देने की कोशिश करता है ताकि संक्रमण रहित चिकित्सा व्यवस्था स्थापित हो सके। ‘हैंड सैनिटाइजिंग रिले’ में विश्व रिकॉर्ड की खुशी के साथ इससे प्रेरणा लेने की अपील की।
अस्पताल के प्रबंध निदेशक जयदीप गुप्ता ने बताया कि चिकित्सकों के नेतृत्व में नर्स एवं अन्य कर्मचारियों ने मानव श्रृंखला रीले तैयार कि और सैनिटाइजर से हाथों को अच्छे से साफ किया। गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड के निर्देशों का पालन करते हुए स्वच्छ भारत अभियान को मजबूती देने की इस सफल कोशिश से उत्साहित हैं।