थैली वाले दूध की गुणवत्ता का जांच अभियान 

अंबाला। थैली में आ रहे दूध की गुणवत्ता के बारे में शिकायत सामने आई कि उच्च गुणवत्ता वाले दूध के पैकेट में निम्न स्तर के दूध की सप्लाई हो रही है। ऐसे में जहां उपभोक्ता के साथ आर्थिक शोषण का मामला सामने आता है, वहीं गुणवत्ता को लेकर की गई अनियमितता को भी विभाग पैनी नजर से देख रहा है। इसके चलते फूड सेफ्टी ऑफिसर अंबाला सुभाष चंद्र ने कई जगह पर बानी एवं डेरी लाइफ (जो पहले रिलायंस का उत्पाद होता था) के सैंपल एकत्रित किए। इन्हें जांच के लिए करनाल लैब भेजने की प्रक्रिया जारी है।
फूड सेफ्टी ऑफिसर ने अपने जांच अभियान के दौरान बताया कि किसी को भी जन स्वास्थ्य की रक्षा हेतु कोई भी कोताही सहन नहीं की जाएगी। अंबाला तथा पंचकूला के साथ-साथ दोनों क्षेत्रों में विशिष्ट एवं अति विशिष्ट व्यक्तियों के दौरों एवं आयोजनों के दौरान खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता जांचना भी उन्हीं के अधिकार क्षेत्र में आता है। कार्य क्षेत्र एवं वर्क लोड अधिक होने के बावजूद दोनों जगह पर समय-समय पर खाद्य एवं पेय उत्पादों के सैंपल एकत्र कर करनाल लैब में भेजते रहते हैं। जब कभी भी कोई निम्न स्तर का उत्पाद या पेय पदार्थ पाया जाता है तो उस विक्रेता निर्माता के विरुद्ध विभाग कड़ी कार्रवाई करता है। सुभाष चंद्र ने खाद्य पदार्थों के विक्रेताओं एवं निर्माताओं को चेताया कि खाद्य पदार्थों एवं पेय पदार्थों की गुणवत्ता पर अपनी चौकन्नी नजर रखें, वहीं आम जनता से भी खाद्य एवं पेय पदार्थ पर निर्माण तथा अवसान तिथि देख कर ही उत्पादों का उपयोग करने को कहा। उनहोंने सलाह दी कि बाजार में कटे-फटे फलों व खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थों के इस्तेमाल से भी परहेज करें। सुभाष चंद्र ने कहा कि थोड़ा खाओ परंतु स्वच्छ खाओ। गुणवत्ता की परख करके ही खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए ताकि सेहत के साथ खिलवाड़ न हो पाए ।