74 दवाओं की बिक्री पर रोक

पटना

अगर आप स्त्री रोग से संबंधित ऑक्सी-टॉक्सी दवा खरीद रहे हैं, तो उस पर बेलिस्टर पैक जरूर देख ले। अगर बिना पैक वाली दवा खरीदे हैं, तो उसका असर आपके जच्चा-बच्चा दोनों पर पड़ सकता है। डॉक्टर और औषधि विभाग इस तरह की दवा खरीदने पर रोक लगाते हैं। इस बात का खुलासा तब हुआ जब औषधि विभाग की ओर से कदमकुआं स्थित मरकरी लाइब्रोटरी लिमिटेड एक दवा एजेंसी पर छापेमारी की। बड़ौदा की इस सीएनएफ कंपनी पर कुल 74 प्रकार की दवाओं को जब्त कर उनकी बिक्री पर रोक लगा दी गई है। इनमें से अधिकांश दवाएं गर्भ के दौरान महिलाओं को दी जाने वाली हैं। औषधि विभाग के इंस्पेक्टर विकास शिरोमणि और सच्चिदानंद विक्रांत ने बताया कि बिना बेलिस्टर पैक की इन दवाओं का असर कम हो जाता है। यही वजह है कि इन दवाओं को खाने के बाद भी मरीजों में असर कम करता है।

औषधि विभाग के ड्रग कंट्रोलर रमेश कुमार की मानें तो रुपये की बचत के लिए दवा माफिया बेलिस्टर का प्रयोग नहीं करते हैं. क्योंकि, ऑक्सी टॉक्सी दवाओं के बेलिस्टर में लागत अधिक लगती है. उन्होंने बताया कि मैरी टॉक्सीन सहित कुल 74 प्रकार की दवाओं को जब्त कर बिक्री पर रोक लगायी गयी है, इनकी कीमत 4 लाख 19 हजार रुपये है. इसके अलावा एजेंसी में तीन दवाओं को अधिक मूल्य पर बेचने और कई दवाओं की क्रय-विक्रय की रसीद नहीं मिली है।