नए साल में विद्यार्थियों को तोहफा

भोपाल

प्रदेश काफी समय से डॉक्टरों की कमी से जूझ रहा है। ऐसे वक्त में प्रदेश के लिए एक अच्छी खबर आई है जिसके अनुसार एमबीबीएस की 450 सीटें बढ़ाने की केंद्र सरकार द्वारा मंजूरी दे दी गई है। जानकारी के अनुसार एमबीबीएस की एक सीट बढ़ाने पर करीबन 1 करोड़ 20 लाख रुपए तक का खर्च आएगा। इसके हिसाब से देखा जाए तो 450 सीटें बढ़ाने में करीबन 540 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। केंद्र सरकार इस 540 करोड़ की राशि में से 60 फीसदी राशि का भुगतान करने की बात कही है जिसने सीटें बढऩे का रास्ता साफ कर दिया है।

बताया जा रहा है कि अभी केंद्र सिर्फ इंफ्रास्ट्रक्चर और उपकरणों को बढ़ाने के लिए पैसे देगा। चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में एमबीबीएम की सीटें 150 से बढ़ाकर 250 कर दी जाएंगी। इसके साथ ही रीवां में एमबीबीएस की सीटें 100 से बढ़ाकर 150 कर दी जाएंगी। सीटों को बढ़ाने का निर्णय देश में डॉक्टरों की कमी को देखते हुए लिया गया।

सीटों को बढ़ाने के हर काम में आने वाले खर्चे का आकलन करने के लिए सिविल वर्क और उपकरणों से जुड़े तीन विशेषज्ञों की कमेटी बनाई गई है। इन तीनों विशेषज्ञों को मुख्य सचिव अंटोनी डिसा द्वारा मेडिकल कॉलेजों में जाकर आकलन करके 15 दिनों के अंदर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं। इस रिपोर्ट को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को भेजा जाएगा जिसके बाद ही किश्तों में राशि जारी की जाएगी। अंदाजा लगाया जा रहा है कि राशि जारी करने के करीबन दो साल बाद बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकेंगी।