सरकार ने स्वीकारा, 35 फीसदी स्कूली बच्चो के फेफड़ों का स्वास्थ्य बेहतर नहीं

नई दिल्ली
35 फीसदी स्कूली बच्चो के फेफड़े बेहतर रूप से स्वास्थ्य नही है जिसमे की 21 प्रतिशत बच्चे दिल्ली के है। इस बात को खुद सरकार ने स्वीकार किया है। आपको बता दे की स्वास्थ्य मंत्री जगतप्रकाश नड्डा ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को इस बात की जानकारी दी। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि खबरों के मुताबिक ब्रीथ ब्लू 2015 अभियान के तहत हेल्थ फाउंडेशन ने कोलकाता, दिल्ली, मुंबई और बेंगलूर में 3 महीने तक 9 से 15 साल की उम्र वाले 2000 बच्चों के फेफडों की प्राथमिक स्वास्थ्य जांच की। उन्होंने कहा कि मीडिया में आये इस अध्ययन के परिणाम के मुताबिक दिल्ली में 21 फीसदी, बेंगलूर में 22 फीसदी, कोलकाता में 26 फीसदी मुंबई में 14 फीसदी और कुल मिलाकर 35 फीसदी स्कूली बच्चों के फेफडों का स्वास्थ्य ठीक नहीं पाया गया। साथ ही साथ मंत्री का कहना है की यह रिपोर्ट सरकार को नहीं दी गई है और स्वास्थ्य मंत्रालय या केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इसकी जांच या पुष्टि नहीं की है।