ब्रांडेड कंपनियों के नाम पर नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, दो हिरासत में

ऊना (हिमाचल प्रदेश)। ब्रांडेड कंपनियों के नाम पर नकली दवाइयां बनाने वाली फैक्ट्री के भंडाफोड़ का मामला प्रकाश में आया है। पुलिस ने ऊना के गांव बसोली में यह मामला पकड़ा है। पता चला है कि आरोपी अपनी फैक्ट्री में लंबे समय से सिर दर्द, बुखार, एलर्जी, बीपी, मधुमेह, हार्ट समेत अन्य गंभीर बीमारियों की नकली दवाएं तैयार कर रहा था। वह इन दवाओं को बाजार से आधे दाम पर बेचता था।

फैक्ट्री मालिक फरार, पत्नी व बेटा हिरासत में

पुलिस के आने की सूचना से पहले ही आरोपी बलराम सिंह चौहान मौके से फरार हो गया। आरोपी को पकडऩे के लिए अलग-अलग जगह दबिश दी जा रही है। पुलिस ने आरोपी की पत्नी और बेटे को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

यह है मामला

नकली दवा कारोबार के मुख्य सरगना का एक निजी चैनल ने स्टिंग आपरेशन किया था। इसमें हुए खुलासों के बाद ऊना पुलिस व दवा निरीक्षक की संयुक्त टीम ने बसोली में कुछ स्थानों पर दबिश दी। यहां पर बड़े पैमाने पर प्रतिबंधित दवाइयों सहित अन्य दवाइयों की खैप बरामद हुई है।

पुलिस ने बसोली गांव में छापा मारकर नकली दवाएं बनाने की फैक्ट्री पकड़ी है। आरोपी मौके से फरार हो गया। पुलिस टीम को गांव के पास ही झाडिय़ों में दवाओं के जले रैपर मिले हैं। वहीं, कई स्थानोंं पर जलाई गई दवाइयां मिली हैं। पुलिस ने ब्रांडेड दवा कंपनियों के नाम से छपे रैपर के रोल भी बरामद किए हैं। इन्हीं कंपनियों के लेवल लगाकर आरोपी दवाइयां बेचता था।

कैरी बैग बनाने के नाम पर कर रहा था दवा का धंधा

दवा तैयार करने से जुड़े उपकरण भी पुलिस के हाथ लगे हैं। आरोपी ने पुलिस से बचने के लिए मदनपुर बसोली में ही एक दुकान नुमा कमरा और एक अंडरग्राउंड टंकी तैयार कर रखी थी। आरोपी बसोली में करीब 25 साल से रह रहा था और मूलरूप से उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। पुलिस की प्राथमिक जांच में सामने आया है कि आरोपी लोगों को बताता था कि वह कैरी बैग तैयार करता है, लेकिन कम समय में अच्छी खासी संपत्ति बना ली। इससे वह क्षेत्र में चर्चा में आ गया था।

जल्द गिरफ्तार होगा आरोपी : एएसपी

ब्रांडेड

एएसपी संजीव भाटिया ने बताया कि पुलिस मौके से कुछ दवाएं बरामद हुई हैं। आरोपी ने काफी मात्रा में दवाएं जलाई भी हैं। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। आरोपी के पकड़ में आने के बाद ही पता चलेगा कि वह नकली दवाइयों की बिक्री किस तरह से करता था। लोगों की सेहत से खिलवाड़ करने के धंधे में उसके साथ और कौन लोग शामिल हैं, इसको लेकर भी जांच की जाएगी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

करवा रहे दवाओं की जांच : ड्रग इंस्पेक्टर

दवा निरीक्षक पंकज शर्मा ने गई बताया कि बसोली में बड़े पैमाने पर बरामद की दवाइयों की जांच करवा रहे हैं। आरोपी के पास कोई वैध ड्रग लाइसेंस नही है। यहां पर मौजूद विभिन्न कंपनियों की दवाइयों के बारे में संबधित कंपनियों से पुष्टि करवाई जा रही है। लैब में भी दवाओं को जांच के लिए भेजा है।

Advertisement