फार्मासिस्टों के लिए बुरी खबर!

जमशेदपुर। झारखंड के फार्मासिस्टों के लिए बुरी खबर आई है। वर्ष 2017 का आखिरी दिन राज्य के फारामासिस्टों के लिए अच्छा नहीं रहा। स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश के कुल 3316 फार्मासिस्टों का निबंधन एवं नवीनीकरण को रद्द कर दिया। जिससे प्रदेशभर में हड़कंप सा मच गया।

इस कार्रवाई को लेकर झारखंड स्टेट फार्मासिस्ट एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को पत्र सौंपा है। वहीं फेडरेशन ऑफ इंडिया फार्मासिस्ट आर्गेनाइजेशन के अध्यक्ष आरएस ठाकुर ने कहा कि विभाग ने गलत ढंग से सभी फार्मासिस्टों का निबंधन रद्द किया है।

ठाकुर ने बताया कि बहुत सारे अवैध निबंधित फार्मासिस्ट जो बिहार फार्मेसी काउंसिल के द्वारा निर्गत किया गया है, इसपर विचार करने की जरूरत है। अगर कार्रवाई नहीं की जाती है तो वो कार्ट जाएंगे।