दवा व्यापारियों के बीच सियासत, ड्रग कंट्रोलर हुई शिकार

पानीपत। हरियाणा के पानीपत से ड्रग कंट्रोलर रितु मेहला को लेकर खबर है जो दवा व्यापारियों के बीच जारी सियासत का शिकार हो चुकी है। 19 फरवरी को स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा मेडिकल स्टोर पर छापेमारी का असर ड्रग कंट्रोलर रितु महेला पर पड़ता दिख रहा है।

बताया गया है कि एक गुट ने स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से मिलकर जिला ड्रग कंट्रोलर पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। वहीं दूसरे गुट ने समर्थन में शपथपत्र विज को सौंपे। मिली जानकारी के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्री से मिलकर शहर विधायक रोहिता रेवड़ी के साथ एक गुट ने ड्रग कंट्रोलर को हटाने की मांग करते हुए उन्हें शपथ पत्र सौंपे। इसका असर ये रहा कि मंत्री ने रितु मेहला को सस्पेंड कर दिया।

आपको बता दें कि सिविल सर्जन डॉ. संतलाल वर्मा के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग की एक टीम मेडिकल ब्यूरो नाम की दवा दुकान पर छापेमारी करने पहुंची थी। टीम में डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. मुनीष गोयल व जिला ड्रग कंट्रोलर रितु मेहला शामिल थी। व्यापारियों के समर्थन में मौके पर पहुंचे शहर विधायक रोहिता रेवड़ी के पीए सर्वजीत से टीम की बहस भी हुई थी। इस दौरान करीब साढ़े चार घंटे हंगामा हुआ। अब देखने वाली बात होगी इस मामले में आगे क्या घटता है।