‘टेली-मेडिसन’ की सुविधा देगी सरकार

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार जल्द ही प्रदेशवासियों को ‘टेली-मेडिसन’ की सुविधा देगी। इसकी जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए राज्य में पहली बार पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर ‘टेली-मेडिसन’ की सुविधा शुरू की जाएगी। इसके तहत मरीज अपने घरों के आसपास बने स्वास्थ्य केन्द्रों में ही विशेषज्ञ चिकित्सों से उपचार ले सकेंगे। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि टेली मेडिसन की शुरुआत प्रथम स्तर से की जाएगी। जिसे बढ़ाकर तीन स्तरों पर उपलब्ध करवाने की योजना है। इसके तहत पहले स्तर में स्वास्थ्य एवं कल्याण केन्द्रों से प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को ई-संजीवनी सॉफ्टवेयर से ऑनलाइन जोड़ा जाएगा। इससे इन केन्द्रों पर उपस्थित विशेषज्ञ चिकित्सक सॉफ्टवेयर के माध्यम से मरीजों की गंभीर बीमारियों का उपचार करेंगे। दूसरे स्तर में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को जिला अस्पतालों तथा जिला अस्पतालों को मेडिकल कॉलेजों से जोड़ा जाएगा।

विज ने बताया कि स्थानीय चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य केन्द्रों पर मरीजों की टेस्ट रिपोर्ट, जांच एवं क्लीनिकल पड़ताल की जाएगी। मरीज का पूरा रिकार्ड स्कैन किया जाएगा। इसके उपरान्त आवश्यकतानुसार द्वितीय एवं तृतीय स्तर पर विशेषज्ञ चिकित्सकों की सलाह सॉफ्टवेयर से ली जाएगी। इसके अलावा पीजीआईएमएस चंडीगढ़ में क्षेत्रीय रिसोर्स सेंटर एवं टेलीमेडिसन इकाई स्थापित की जाएगी। वहां चिकित्सक दूरस्थ स्थित स्वास्थ्य केन्द्रों में उपस्थित गंभीर बीमारियों के मरीजों का उपचार करेंगे।

स्वास्थ्य मंत्री विज ने कहा कि इससे राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को न केवल विशेषज्ञ चिकित्सकों से उपचार करवाने की सुविधा मिलेगी बल्कि उनको समय, पैसा तथा यातायात की परेशानी से भी छुटकारा मिलेगा। गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीजों को शीघ्र चिकित्सीय सहायता प्राप्त होगी तथा चिकित्सक अपने क्षेत्रों में ही रह सकेंगे। इससे स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार होगा तथा गरीब-अमीर लोगों को समान रूप से चिकित्सा सुविधा प्राप्त होगी।