नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री का पर्दाफाश, दिल्ली की फार्मा कंपनी की नकली दवाएं , दो आरोपी गिरफ्तार

नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री का पर्दाफाश, दिल्ली की फार्मा कंपनी की नकली दवाएं , दो आरोपी गिरफ्तार

देहरादून की टून पुलिस ने नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। यहां दिल्ली के फार्मा कंपनी के नाम से नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री का कारोबार चल रहा था। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों की कार से तकरीबन 4 करोड़ रुपए के 29 लाख कैप्सूल बरामद किए हैं। फैक्ट्री को सील करते हुए पुलिस ने आरोपियों के करोड़ों रुपए का ट्रांजेक्शन भी फ्रिज  कर दिया है।

इस मामले की जानकारी देते हुए एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि  दिल्ली की फार्मा कंपनी जग सनपाल फार्मास्यूटिकल लिमिटेड (JAGSONPAL PHARMACEUTICALS LIMITED) के डिप्टी मैनेजर विक्रम रावत ने रायपुर थाना में शिकायत दर्ज कराई थी। इस कंपनी के नाम से जालसाजी, कूटरचना और धोखाधडी कर नकली/मिलावटी दवाइयां बेची जा रही हैं। प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के आदेशानुसार थाना रायपुर पर मु0अ0सं0 445/2023 धारा 420/467/468/471/483/486/336 भादवि पंजीकृत किया गया। घटना की गम्भीरता को देखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा क्षेत्राधिकारी डोईवाला के नेतृत्व में थाना रायपुर और एसओजी की संयुक्त पुलिस टीम गठित करते हुए आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये।

7200 नकली दवा बरामद 

गठित पुलिस टीम द्वारा नामजद अभियुक्त सचिन शर्मा के सम्बन्ध में जानकारी की गयी तो अभियुक्त की अमन विहार में एक मेडिकल शॉप होने के सम्बन्ध में जानकारी मिली, जिस पर पुलिस टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए अभियुक्त सचिन शर्मा व उसके पार्टनर विकास कुमार को पाल्टेक्निक रोड धर्मकांटा रायपुर के पास से रेंज रोवर गाडी के साथ गिरफ्तार किया गया, जिनके कब्जे से वाहन में रखी इन्डोकेप व इन्डोकेप एस0आर0 दवाईयों के 24 डिब्बे कुल 7200 कैप्सूल नकली दवाईयां बरामद हुई।

ये भी पढ़ें- पटना में 8022 नशीले इंजेक्शन बरामद, ड्रग विभाग ने की छापेमारी

अभियुक्त गणों से पूछताछ करने पर उनके द्वारा बताया कि मकदूमपुर गांव पर उनकी एक नकली फैक्ट्री है और गोदावरी रूडकी स्थित फ्लैट में उनके द्वारा नकली दवाईयां और उससे सम्बन्धित सामाग्री रखी हुई है, जिसे वह मूल दवाई की कम्पनी के नाम से विभिन्न राज्यों में सप्लाई करते है । पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त गण की निशानदेही पर मकदुमपुर गांव निकट लकनौंता चौराहा झबरेडा हरिद्वार स्थित फैक्ट्री व अभियुक्त सचिन शर्मा के गोदावरी रूडकी हरिद्वार स्थित फ्लैट से भारी मात्रा में नकली दवाईयां, नकली दवाईयां बनाने के उपकरण,नकली दवाईयां बनाने के लिये कच्चा माल व अन्य सामाग्री की बरामद की गयी है व मकदूमपुर हरिद्वार में स्थित फैक्ट्री को सील किया गया। अभियुक्त गणों के द्वारा नकली दवाईयां की पूर्व में की गयी सप्लाई के सम्बन्ध में भी साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की जा रही है।

इन राज्यों में होती थी दवाओं की सप्लाई

पूछताछ में सामने आया है कि आरोपियों ने दून में एमएस मेडिकोज के नाम से फर्म खोली थी। इसके माध्यम से वह दवाइयों को दिल्ली, लखनऊ, कोलकाता आदि शहरों में सप्लाई करते थे।

पुलिस के द्वारा बरामदगी का विवरण 

1- INDOCAP एस0आर0 कैप्सूल की 20 पेटी में रखे कुल 2500 डिब्बे कुल 7,50,000 कैप्सूल
2- नीले प्लास्टिक के 07 डिब्बों में रखे कुल 9,01,000 कैप्सूल
3- काली रंग की 11 प्लास्टिक की पन्नी में रखे 12,82,600 कैप्सूल
4- विभिन्न बैंको की 24 चौक बुक
5- INDOCAP एस0आर0 खाली कैप्सूल बाक्स के रैपर 3000
6- खाली कैप्सूल 1,00,000/-
7- दवाई बनाने हेतु कच्चा माल 50 किलो
8- सीलिंग हेतु कम्पनी के टेप रोल 107
9- कम्पनी का प्रिन्टेड फायल कवर बडे 15
10- कम्पनी के गत्ते की खाली पेटी 50
11- नकली दवाईयों की टैक्स इनवाइस बिल -07
12- HP लैपटाप -1,
13- मोबाइल फोन -07
14- रैंज रोवर गाडी सं0 TO 923 CH7967B- 01 (कीमत लगभग एक करोड रूपये)
15- KIA गाडी सं0 UK 17R-2647 -01
16- नकली दवाईयां बनाने के उपकरण
17- नकली दवाईयां बनाने की मशीनें

 

Advertisement