दोषी दवा कंपनियां होंगी ब्लैक लिस्टेड

देहरादून: आयुर्वेदिक दवाओं के सैंपल जांच में फेल आने पर संबंधित दोषी कंपनियों को ब्लैक लिस्टेड करने का निर्णय लिया गया है। घटिया दवाई की आपूर्ति के मामले में सचिव आयुष ने सप्लाई करने वाली कंपनियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि आयुर्वेद विभाग द्वारा किडनी रोगियों के लिए श्वेत पार्पटी, गोखुरादि गुगुलु और त्वचा रोग के लिए खदिरारिष्ट की खरीद की गई थी लेकिन जनवरी और फरवरी में तैयार की गई इन दवाइयों के सैंपल खरीद के बाद फेल पाए गए। हालांकि सैंपल के जांच में फेल होने पर विभाग ने दवाई की बिक्री पर रोक लगा दी है।

बताया जा रहा है कि दवाइयों की मैन्युफैक्चरिंग की तारीख जनवरी और फरवरी के महीने की थी लेकिन सैंपल रिपोर्ट सितम्बर में आई। इस दौरान दवाओं की सप्लाई जारी रही। इस संबंध में आयुर्वेद विशेषज्ञों का कहना है कि किडनी की बीमारी में घटिया दवाई मरीजों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। हालांकि आयुष सचिव हरबंस चुग ने कहा कि आयुर्वेद निदेशक को सैंपल फेल दवाइयों की जांच के लिए के निर्देश दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट में दवा कंपनियों के दोषी पाए जाने पर उन्हें ब्लैक लिस्टेड किया जाएगा।