अस्पताल में मिलीं एक्सपायरी दवा, भंडार संचालक सस्पेंड

बोकारो (झारखंड)। स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने अनुमंडलीय अस्पताल (एसडीएच) चास का औचक निरीक्षण किया। उनके साथ स्वास्थ्य के क्षेत्रीय निदेशक (हजारीबाग) डॉ. विनय कुमार भी थे। इस दौरान मंत्री ने दवा भंडार में वर्ष 2016 के एक्सपायरी डेट की आयरन की दवाएं पकड़ीं। उन्होंने त्वरित कार्रवाई करते हुए दवा भंडार के संचालक प्रकाश कुमार को निलंबित कर दिया। साथ ही दवा भंडार को सील करने का निर्देश दिया। मौके पर सिविल सर्जन डॉ. सोवान मुर्मू को अस्पताल के प्रभारी डीएस डॉ. ए. चौधरी से स्पष्टीकरण मांगने का निर्देश दिया। चंद्रवंशी ने हजारीबाग के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. विनय कुमार को तुरंत कमेटी गठित कर अस्पताल में मौजूद दवाइयों की जांच कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि अगर जांच में दवा भंडार का संचालक दोषी पाया जाता है, तो उसके खिलाफ प्रपत्र क गठित कर सख्त कार्रवाई की जाएगी। अस्पताल के प्रभारी डीएस डॉ. ए. चौधरी की संलिप्तता पाए जाने पर उनके खिलाफ भी विभागीय कार्यवाही चलाई जाएगी।
जानकारी अनुसार स्वास्थ्य मंत्री राज्य के खेल एवं संस्कृति मंत्री अमर कुमार बाउरी के घर शादी समारोह में शामिल होने आए थे। इस दौरान कुछ देर के लिए सर्किट हाउस में ठहरे थे। उसी समय कुछ लोगों ने उन्हें अनुमंडलीय अस्पताल चास के दवा वितरण केंद्र में 2016 की एक्सपायरी वाली आयरन की गोलियां खुले कार्टन में रखे होने की जानकारी दी। उस समय स्वास्थ्य मंत्री सदर अस्पताल का निरीक्षण करने जा रहे थे। सूचना मिलते ही वे अचानक एसडीएच चास की ओर मुड़ गए। अस्पताल पहुंचने के बाद वे पूरी टीम के साथ सीधे दवा भंडार में गए और वहां खुले कार्टन की जांच की। उसमें एक्सपायरी डेट की आयरन की गोलियां भर कर रखी गईं थीं। जबकि मापदंड के अनुसार एक्सपायरी दवा को कार्टन में पैक कर उसे लाल कपड़े की पट्टी से बांधकर रखना है।