AIIMS में मरीजों के स्वास्थ्य के साथ हो रहा है खिलवाड़

गोरखपुर AIIMS में मरीजों के स्वास्थ्य के साथ हो रहा है खिलवाड़, मरीज को बेच डाली एक्सपायर इंसुलिन

गोरखपुर AIIMS में मरीजों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ का मामला सामने आया है। यहां के अमृत फार्मेसी में मरीज को एक्सपायर इंसुलिन बेच दिया गया। एक मरीज ने बीते 8 नवंबर को ओपीडी में डॉक्टर से इलाज कराने के बाद अमृत फार्मेसी से 15 दिनों की दवाई ली और घर वापस चला गया। घर पहुंचने पर जब उसने इंसुलिन की एक्सपायर डेट देखी तो उसका दिमाग सुन्न रह गया।

इसके बाद मरीज ने बुधवार को एम्स में पहुंचकर थाने में मामले की शिकायत दर्ज की। मरीज की शिकायत पर पुलिस अमृत फार्मेसी के संचालक को लेकर थाने पहुंची। इस मामले की जांच जारी है।

गोरखपुर AIIMS का क्या है पूरा मामला 

बिहार में वाल्मीकिनगर के रहने वाले सुरेंद्र चौधरी डायबिटीज से ग्रसित हैं। वो अक्सर अपना इलाज कराने के लिए गोरखपुर एम्स में आते हैं। 8 नवंबर को भी उन्होंने डॉक्टर से जांच करायी इसके बाद परिसर में खुले अमृत फार्मेसी से 15 दिन की दवा खरीदकर घर चले गए। वो हमेशा इसी फार्मेसी से दवा खरीदते हैं। 8 नवंबर को उन्होंने फार्मेसी से तीन दवाएं खरीदीं। इनमें लिली कंपनी का10 मिलीलीटर का हूमिनसुलिन आर इंजेक्शन का वायल भी खरीदा। दवा लेकर घर पहुंचा तो एक्सपायरी डेट का मिलान करने लगा। इंसुलिन इंजेक्शन मई, 2023 में ही एक्सपायर हो चुका था। सुरेंद्र ने कहा कि अगर उन्होंने बिना एक्सपायरी डेट देखे इंजेक्शन लगवा लिया होता तो उनकी मौत भी हो सकती थी। सुरेंद्र ने अमृत फार्मेसी के संचालक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

डॉक्टरों ने दवा बदलने की शिकायत 

इस मामले पर एम्स के डॉक्टरों का कहना है किअमृत फार्मेसी में दवाओं को अपने मन से बदल दिया जाता है। इसकी कई बार शिकायत भी हो चुकी है। जो मरीज डाक्टर को दवा दिखाने चले जाते हैं, उनसे दवा वापस कर लिखी गई दवा लेने को कहा जाता है लेकिन अधिकांश मरीज दूर से आते हैं। वह दवा लेकर वापस घर चले जाते हैं। सही दवा न मिलने से मरीजों को फायदा भी नहीं होता है। कुछ दिनों पहले ओपीडी में आए बिहार के रोगी को नस की दिक्कत के लिए डाक्टर ने इंजेक्शन लिखा तो अमृत फार्मेसी से उसे प्रसव पीड़ा बढ़ाने वाला इंजेक्शन दे दिया गया। संयोग था कि रोगी ने डाक्टर को इंजेक्शन दिखा लिया। इंजेक्शन वापस किया गया।

ये भी पढ़ें- 61 दवाओं के सैंपल जांच में हुए फेल, इनमें बुखार और शुगर की दवाएं भी शामिल

वहीं अमृत फार्मेसी के संचालक मनोज कुमार का कहना है कि पुलिस एम्स थाने लेकर गई थी। एक्सपायर इंसुलिन इंजेक्शन मेरी दुकान से नहीं दिया गया है। जब भी पुलिस बुलाएगी, जाऊंगा।

Advertisement