औषधि निरीक्षक ने मारा छापा, भारी मात्रा में एक्सपायर दवाइयां बरामद, ग्रामीण क्षेत्रों में आरोपी करता था सप्लाई

मुजफ्फरनगर। गांव शेरनगर में ग्राम प्रधान के भाई के घर से बरामद दवाइयों की जांच-पड़ताल 24 घंटे में भी पूरी नहीं हो सकी। तीन जनपदों की टीमें लगातार बरामद दवाइयों की जांच कर सूची तैयार करने में जुटी हुईं हैं। बरामद दवाइयों में 90 फीसदी तक एक्सपायर डेट की हैं, जो सामान्य बीमारियों में काम आने वाली हैं। औषधि निरीक्षक लवकुश ने बताया कि प्रथम दृष्टया अब तक की जांच में यही सामने आ रहा है कि आरोपी एक्सपायर हो चुकीं उक्त दवाइयों को री-प्रिंट करने के बाद देहात क्षेत्र में डॉक्टरों व मेडिकल स्टोर्स पर सप्लाई करता था।

नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के गांव शेरनगर केे नवनिर्वाचित प्रधान इकराम के भाई इनाम के घर शनिवार को सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह व औषधि निरीक्षक लवकुश प्रसाद के नेतृत्व में टीम ने छापा मारा था। इस दौरान इनाम के घर से बड़ी तादाद में अवैध रूप से स्टॉक कर रखी गईं भारी मात्रा में दवाइयां मिली थी, जिसकी कीमत करीब एक करोड़ रुपये तक आंकी जा रही है। दवाइयां इतनी अधिक मात्रा में थी कि इनकी जांच के लिए मेरठ और सहारनपुर से भी औषधि विभाग की टीमों को मौके पर बुलाना पड़ा।

तीनों जनपदों की टीमें बरामद दवाइयों की जांच व सूची बनाने में लगी हुई हैं। 24 घंटे में भी जांच पूरी नहीं हो सकी है। औषधि निरीक्षक लवकुश प्रसाद ने बताया कि बरामद दवाइयों में 90 फीसदी से अधिक एक्सपायर डेट की हैं। इनमें अधिकांश दवाइयां सामान्य बीमारियों में काम आने वाली हैं, जिनमें एंटीबायटिक, फीवर, पेट से संबंधित बीमारियां, एसिडिटी और दर्द की दवाइयां शामिल हैं। उन्होंने बताया कि अब तक की जांच में यही सामने आ रहा है कि आरोपी द्वारा एक्सपायरी हो चुकीं उक्त दवाइयों को री-प्रिंट करने के बाद देहात क्षेत्र में डॉक्टरों व मेडिकल स्टोर्स पर सप्लाई करता था। इस संबंध में आरोपी के घर से कुछ अहम कागजात भी बरामद हुए हैं, जिनकी जांच में उसकी सप्लाई चेन की भी जानकारी मिल पाएगी।

गांव शेरनगर में प्रधान इकराम के भाई इनाम के घर से मिले एक्सपायर दवाइयों के के मामले में देर रात नई मंडी थाने में उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। फरार आरोपी की तलाश के लिए क्राइम ब्रांच समेत कई टीमें लगाईं गईं हैं। सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह ने रिपोर्ट होने की पुष्टि की है। फरार आरोपी की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच के साथ ही कई टीमों का गठन किया गया है। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।