फिर बढ़ी 25 फीसद तक दवाओं की बिक्री, इस बीमारी के के बढ़ गए हैं मरीज

प्रयागराज। कोरोना की रफ़्तार में कमी आने के बाद में दवा की बिक्री में काफी कमी देखने को मिली थी। लेकिन एक बार फिर से दवाओं की बिक्री में इजाफा देखने को मिल रहा है। दरअसल मौसम के उतार -चढ़ाव के बाद से लोगों में वायरल फीवर एवं अन्य फंगल बीमारियां तेजी से बढऩे लगी हैं। वायरल फीवर के मरीजों की संख्या में वृद्धि होने से एंटीबायोटिक, एंटीपायरेटिक और एनालजेसिक दवाओं की बिक्री बढ़ी है।

इस श्रेणी की दवाओं में पैरासीटामाल, नीमोस्लाइड, एसिक्लोफेनिक, सिप्रोफ्लाक्सेसिन, ओ-फ्लाक्सेसिन, एजिथ्रोमाइसीन दवाएं शामिल हैं। इलाहाबाद केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल दुबे का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर के बाद दवाओं की बिक्री बहुत घट गई थी। मगर, जुलाई के पहले सप्ताह से वायरल फीवर के मरीजों की संख्या में वृद्धि होने से दवाओं की बिक्री में तेजी आने लगी है। इलाहाबाद केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट (फुटकर) एसोसिएशन के अध्यक्ष राणा चावला का कहना है कि कोरोना के बाद दवाओं की जो बिक्री रुक गई थी, उसमें अब तेजी आने लगी है।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर की रफ्तार कुंद पड़ जाने के बाद से दवाओं की बिक्री काफी घट गई थी। इससे दवा कारोबारियों के माल गोदाम में डंप हो गए थे। दवाओं की वापसी के भी रास्ते बंद हो गए थे, क्योंकि दवा कंपनियों ने भी दवाएं वापस लेने से साफ मना कर दिया था। इससे दवा व्यवसाइयों को भारी घाटा होने का अंदेशा था। लेकिन, इस महीने के पहले हफ्ते में ही वायरल फीवर के मरीजों के तेजी से बढऩे के कारण दवाओं की बिक्री में करीब 20 से 25 फीसद तक इजाफा हुआ है।