जींद में अवैध दवा फैक्टरी का भंडाफोड़, डेढ़ क्विंटल से अधिक दवाएं जब्त, दो गिरफ्तार

जांच के दौरान सीएम फ्लाइंग

जींद। हरियाणा के जींद जिले में सीएम फ्लाइंग (राज्य पुलिस की एक इकाई) ने बृहस्पतिवार को छापेमारी कर एक निजी स्कूल परिसर में चल रही अवैध दवा फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया। पुलिस ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि छापेमारी के दौरान करीब डेढ़ क्विंटल से ज्यादा वजन की दवाएं और पाउडर जब्त की गई, जिनमें काफी संख्या में कैप्सूल और गोलियां हैं। पुलिस ने बताया कि जिला औषधि नियंत्रक की शिकायत पर सिविल लाइन थाने की पुलिस मामले की जांच कर रही है।  उन्होंने बताया कि स्कूल संचालक तथा दवा फैक्टरी के संचालक को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

जानकारी के अनुसार जींद में नागरिक अस्पताल के पीछे श्योराण कालोनी में निजी स्कूल परिसर में चल रही दवाई फैक्ट्री पर सीएम फ्लाइंग ने छापा मारा। टीम ने यहां दवाइयों तथा पाउडर को बरामद किया है। पूछताछ में सामने आया कि फैक्टरी संचालक के पास फैक्टरी से संबंधित कोई कागजात नहीं हैं। फिलहाल फैक्ट्री से बरामद दवाइयों के सैंपल लेकर जांच के लिए लैबोरेटरी भेजे गए हैं। इस मामले में जिला ड्रग कंट्रोलर की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि खुफिया सूचना मिली थी कि सामान्य अस्पताल के पीछे श्योराण कालोनी में एक प्राइमरी स्कूल चलाया जा रहा है। इस स्कूल में ही दवा निर्माण की फैक्ट्री भी चलाई जा रही है। सूचना के आधार पर सीएम फ्लाइंग के डीएसपी रविंद्र कुमार के नेतृत्व में टीम ने छापेमारी दल का गठन किया गया। टीम में जिला ड्रग कंट्रोलर विजय राजे सहित अन्य पुलिस अधिकारी भी शामिल रहे। टीम ने बताए गए स्कूल पर छापेमारी की तो वहां दवाइयों को पैक किया जा रहा था। कई दवाइयों का पाउडर भी पड़ा था। मशीनें थी और जो रेपर थे उन पर मुंबई, बद्दी (हिमाचल प्रदेश) लिखा था।

पुलिस ने स्कूल संचालक गौरव तथा फैक्टरी संचालक हाउसिंग बोर्ड निवासी रवि से पूछताछ की तो वो कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। इसके अलावा ड्रग फैक्ट्री संचालक के पास किसी प्रकार का कोई लाइसेंस या दस्तावेज नही था। पुलिस ने स्कूल संचालक तथा फैक्टरी संचालक को हिरासत में ले लिया है। सीएम फ्लाइंग के डीएसपी रविंद्र कुमार ने बताया कि निजी स्कूल में फैक्टरी चलाए जाने की सूचना पर छापेमारी की गई थी। छापेमारी के दौरान दवाइयों के सैंपल लेकर जांच के लिए लैबोरेटरी भेज दिए गए हैं। स्थानीय पुलिस मामले की जांच कर रही है।

छापेमारी के दौरान जिला औषधि नियंत्रक विजयराजे और सिविल लाइन थाना के प्रभारी डॉ. सुनील भी शामिल मौजूद रहे। प्रवक्ता के मुताबिक पुलिस प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

Advertisement