कैंसर का इलाज अब बिना दर्द और थेरेपी के होगा

कैंसर का इलाज अब बिना दर्द और थेरेपी के होगा

कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से दुनिया भर के बहुत सारे लोग ग्रसित है। कैंसर के कई प्रकार होते हैं इनमें से एक है प्रोस्टेट कैंसर (Prostate Cancer)। ये पुरुषों में होने वाला दूसरा सबसे अधिक बार होने कैंसर है। आंकड़ों की माने तो दुनिया भर में 8 में से हर एक पुरुष इससे पीड़ित है। संयुक्त राज्य अमेरिका में इसके कारण पुरुषों की सबसे अधिक मौत हुई है।

प्रोस्टेट कैंसर दुनिया का दूसरा आम कैंसर बना 

प्रोस्टेट कैंसर के कई रुप ऐसे हैं जिनका इलाज जल्दी संभव नहीं है। मेटास्टैटिक कैस्ट्रेशन-प्रतिरोधी प्रोस्टेट कैंसर एक प्रकार का उन्नत प्रोस्टेट कैंसर है जो अब सामान्य उपचारों पर प्रतिक्रिया नहीं करता है और शरीर के अन्य भागों में फैल जाता है। इससे व्हाइट ब्लड सेल्स खत्म होने लगते हैं।

साल 2020 में दुनिया भर में प्रोस्टेट कैंसर के 1.41 मिलियन नए मामले सामने आए.मेटास्टैटिक कैस्ट्रेशन-प्रतिरोधी प्रोस्टेट कैंसर एक प्रकार का उन्नत प्रोस्टेट कैंसर है जो अब सामान्य उपचारों का जवाब नहीं देता है और शरीर के अन्य भागों में फैल गया है।

AZD5069 दवा का इस्तेमाल 

शोध के वक्त वैज्ञानिकों ने मायलोइड कोशिकाओं को ट्यूमर में खींचने से रोकने के लिए AZD5069 नामक एक प्रायोगिक दवा और आमतौर पर प्रोस्टेट कैंसर के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली हार्मोन थेरेपी, जिसे एन्जालुटामाइड कहा जाता है, के संयोजन का उपयोग किया। ये दवा  माइलॉयड कोशिकाओं को रोकती है क्योंकि ये कोशिकाएं ट्यूमर में प्रवेश नहीं कर पाती हैं तो वे अपनी सामान्य ट्यूमर को बढ़ावा देने वाली गतिविधियां नहीं कर सकती हैं।

ये भी पढ़ें- डॉ. रेड्डीज ने डायबिटीज के लिए डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर ई-कॉमर्स वेबसाइट ‘सेलेविडा वेलनेस’ लॉन्च की

मेटास्टैटिक कैस्ट्रेशन-प्रतिरोधी प्रोस्टेट कैंसर वाले 21 अध्ययन प्रतिभागियों में से, शोधकर्ताओं ने बताया कि उनमें से पांच ने इलाज का जवाब दिया या तो उनके ट्यूमर का आकार 30 प्रतिशत से अधिक सिकुड़ गया, प्रोस्टेट-विशिष्ट एंटीजन (पीएसए) के परिसंचारी स्तर में कमी आई, या परिसंचारी ट्यूमर कोशिका रक्त स्तर में गिरावट हुई है।

 

Advertisement