कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेने के बाद बिगड़ी युवक की हालत, अस्पताल में मौत

जींद। हरियाणा सरकार ने एक जनवरी से सभी सार्वजनिक स्थलों यहां तक कि ऑटो या बस सेवा पर उन लोगों के लिए रोक लगा दी है जिन्होंने कोरोना वैक्सीन नहीं ली है। इसके चलते जिन्होंने वैक्सीन नहीं ली थी उनकी लम्बी लाइनें अस्पतालों में लग गई हैं। लेकिन सामान्य अस्पताल में वैक्सीनेशन की पहली डोज लेने के बाद सांस लेने में दिक्कत होने के बाद बीती रात एक युवक की मौत हो गई। परिजनों ने चिकित्सकों पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है।

वहीं अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट ने बताया कि देश में एक करोड़ से ज्यादा को वैक्सीनेशन की डोज लग चुकी है। युवक को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। इलाज किया जा रहा था लेकिन परिजन उसे निजी अस्पताल ले गए। फिलहाल मृतक युवक का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। रिपोर्ट में जो कुछ भी सामने आएगा उसके आधार पर आगामी कारवाई अमल में लाई जाएगी। मामला जींद जिले के नरवाना क्षेत्र का है।

आजाद नगर निवासी मोहित 24 ने सोमवार दोपहर को कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज ली थी। कुछ समय के बाद युवक अपने घर वापस लौट गया। देर शाम को खाना खाने के बाद युवक को दिक्कत हुई। रात को सांस लेने में दिक्कत बढ गई तो परिजन उसे सामान्य अस्पताल लेकर पहुंच गए। बावजूद इसके युवक की तबीयत में सुधार नहीं हुआ तो परिजन उसे हिसार के निजी अस्पताल ले गए। जहां पर चिकित्सकों ने इंट्री से पूर्व ही मृत घोषित कर दिया। जिस पर युवक के शव को वापस सामान्य अस्पताल नरवाना लाया गया।

मृतक के पिता नरेश ने बताया कि वैक्सीनेशन के चलते देर शाम को उसके बेटे की तबीयत खराब हो गई। हालात बिगडने पर वह अपने बेटे को लेकर सामान्य अस्पताल पहुंचा। जहां चिकित्सक स्टाफ ने उसे इंजेक्शन, ऑक्सीजन तथा भांप दी लेकिन टैस्ट सुबह करने के बारे में कहा और साथ ही इससे ज्यादा इलाज न होने की बात कही। बेटे की हालात बिगडती देख वह उसे हिसार के निजी अस्पताल ले गया लेकिन उसके बेटे की मौत हो गई। नरेश ने आरोप लगाया कि सही इलाज न मिलने और लापरवाही के कारण उसके बेटे की मौत हुई है। घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंच गई और हालातों का जायजा लिया। युवक की मौत के पीछे कारण क्या रहे इसका खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हो पाएगा।

नरवाना के मेडिकल सुपरिटेंडेंट देवेंद्र बिंदलिश ने बताया कि चिकित्सकों ने इंजेक्शन, आक्सीजन व भांप दी थी। सुबह टेस्ट करवाने की बात कही थी। परिजन युवक को बीच में ही निजी अस्पताल ले गए। वैक्सीनेशन की देशभर में एक करोड़ से ज्यादा डोज दी जा चुकी है। युवक का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का खुलासा हो सकेगा।

Advertisement